भगवान शिव के हैं अनन्य भक्त, तो गुजरात के इन मंदिरों के अवश्य करें दर्शन

जय हिन्द साथियों आज हम बात करेंगे खजुराहो में स्थित हैं यह हिन्दू मंदिर, एक बार देखें जरूर के बारे में इस आर्टिकल की पूर्ण जानकारी नीचे पॉइंट में बताई गई है तो आप इस आर्टिकल की संपूर्ण जानकारी पढ़े:- जब भी गुजरात राज्य की विशेषताओं की बात आती है तो यहां के खान-पान की बात करते हैं। लेकिन गुजरात राज्य का केवल खान-पान ही विशिष्ट नहीं है, बल्कि यह राज्य आध्यात्मिक दृष्टि से भी उतना ही महत्वपूर्ण है। यहां पर कई शिव मंदिर हैं, जो शिव भक्तों के लिए किसी प्रसाद से कम नहीं है। यहां तक कि भारत के बारह आदि ज्योतिर्लिंगों में से पहला सोमनाथ मंदिर गुजरात में ही है। गुजरात के शिव मंदिर उत्कृष्ट पत्थर की नक्काशी और विशेष रूप से रंगीन आंतरिक सज्जा की झलक पेश करते हैं। यह शिव मंदिर केवल धार्मिक स्थलों के रूप में ही प्रसिद्ध नहीं है, बल्कि भारत की प्राचीन विरासत और संस्कृति के बारे में भी काफी कुछ बताते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको गुजरात में स्थित कुछ बेहतरीन शिव मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जिनके बारे में हर शिव भक्त को अवश्य जानना चाहिए

कुंभेश्वर महादेव मंदिर

  • कुम्बेश्वर महादेव मंदिर 12वीं शताब्दी के वास्तुशिल्प चमत्कार का एक नमूना है
  • इस मंदिर को सोमपुरा समुदाय द्वारा तैयार किया गया था
  • यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सोमपुरा समुदाय जैन मंदिरों में अपने अद्भुत शिल्प कौशल के लिए जाना जाता है
  • कुंभेश्वर महादेव मंदिर में जैन प्रभाव नजर आते हैं
  • मंदिर की बाहरी दीवार भैरव, चामुंडा और नरेश की छवियों को दर्शाती हैं

नागेश्वर मंदिर

  • नागेश्वर मंदिर गुजरात के जामनगर जिले से लगभग 12 किमी दूर स्थित है
  • साधारण लेकिन उत्तम दर्जे के डिजाइन के साथ बनाया गया यह एक विशाल शिव मंदिर है मंदिर परिसर में गहन ध्यान मुद्रा में बैठे
  • भगवान शिव की 85 फीट ऊंची मूर्ति है
  • मंदिर के गर्भगृह में भगवान शिव का एक चांदी का लिंग है, जिसे नागेश्वर के नाम से जाना जाता है
  • भगवान नागेश्वरी की एक मूर्ति उनके पीछे खड़ी है
  • नागेश्वर मंदिर में ज्योतिर्लिंग का मुख दक्षिण की ओर और गोमुगम का मुख पूर्व की ओर है

सोमनाथ मंदिर

  • गुजरात में सोमनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित बारह ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है
  • यह महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाओं, राजवंशों के पतन और कई विनाशकारी हमलों का साक्षी रह चुका है
  • वर्तमान में यह गुजरात पर्यटन के सबसे आकर्षक तत्व के रूप में कार्य करता है
  • सोमनाथ मंदिर को विभिन्न आक्रमणकारियों द्वारा छह बार नष्ट किया जा चुका है
  • लेकिन हर बार अलग-अलग राजाओं द्वारा मंदिर का जीर्णोद्वार कराया गया
  • वर्तमान मंदिर का पुनर्निर्माण 1951 में मंदिर वास्तुकला की विशिष्ट चालुक्य शैली में किया गया था
  • मंदिर को तीन खंडों में बांटा गया है-नृत्य कक्ष, केंद्रीय हॉल और आंतरिक गर्भगृह
  • मंदिर के बाहरी भाग को प्रभावशाली डिजाइनों से उकेरा गया है
  • बाण-स्तम्भ इस मंदिर का एक अन्य महत्वपूर्ण हिस्सा है

कोटेश्वर मंदिर

  • कच्छ जिले में स्थित कोटेश्वर मंदिर प्राचीन भारतीय स्थापत्य भव्यता का एक नमूना है औरगुजरातके सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है
  • मंदिर रामायण की एक दिलचस्प कहानी से जुड़ा है
  • जब रावण ने शिव के लिए की गई तपस्या के बदले में अमरता प्राप्त करने की कामना की, तो अच्छे भगवान शिव ने उसे अपना
  • अमरलिंग एक शर्त के साथ उपहार में दिया कि लिंगम धरती को बिना छुए लंका पहुंच जाए।
  • यह देखकर देवता भयभीत हो गए और उन्होंने रावण को धोखा देकर आत्मालिंगम को धरती पर गिरा दिया
  • बाद में जब रावण ने लिंगम को उठाने की कोशिश की, तो उक्त लिंगम हजारों समान लिंगम में बदल गया
  • परिणामस्वरूप वह असली की पहचान नहीं कर सका और गलत के साथ लंका चला गया
  • आज का कोटेश्वर मंदिर उसी स्थान पर स्थित है जहां रावण ने मूल शिवलिंग को छोड़ दिया था

Read Also

  1. गाजियाबाद की ये डरावनी जगहें कई दिलचस्प कहानियों के लिए हैं फेमस
  2. झुमरी तलैया: नाम तो सुना ही होगा यहां घूमने के लिए हैं कई अद्भुत जगहें
  3. बिहार राज्य की खूबसूरती में चार-चांद लगाते हैं यह वाटरफॉल

Conclusion:- मित्रों आज के इस आर्टिकल में भगवान शिव के हैं अनन्य भक्त, तो गुजरात के इन मंदिरों के अवश्य करें दर्शन के बारे में कभी विस्तार से बताया है। तो हमें ऐसा लग रहा है की हमारे द्वारा दी गये जानकारी आप को अच्छी लगी होगी तो इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment