चार धाम की यात्रा कैसे करें, जानें पूरा प्रोसेस

नमस्कार दशकों………

आज हम बात करेंगे कि चार धाम की यात्रा कैसे करें, जानें पूरा प्रोसेस के बारे में इस आर्टिकल की पूर्ण जानकारी नीचे पॉइंट में बताई गई है तो आप इस आर्टिकल की संपूर्ण जानकारी पढ़े…………

चार धाम की यात्रा हिंदू धर्म में बेहद पवित्र मानी जाती है। यही वजह है कि श्रद्धालु इस यात्रा का इंतजार बड़ी ही बेसब्री से किया करते हैं। साल 2022 में उत्तराखंड की चार धाम यात्रा मई महीने में शुरू हो गई है। इसी के साथ इस यात्रा में श्रद्धालुओं का जमावड़ा देखने को मिल रहा है। बड़ी संख्या में भक्त इन पवित्र धामों के दर्शन के लिए जा पहुंच रहे हैं। बता दें कि उत्तराखंड की इस चार धाम यात्रा में कुल 4 भव्य तीर्थ स्थान शामिल हैं, जिनमें गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम के दर्शन किए जाते हैं। ये चारों पवित्र धाम उत्तराखंड के गढ़वाल हिमालय में स्थित हैं। यह यात्रा परंपरागत रूप से पश्चिम से पूर्व की और की जाती है। ऐसे में हमारी यात्रा यमुनोत्री से शुरू होते हुए बद्रीनाथ पर जाकर खत्म होती है।

सड़क मार्ग की चार धाम यात्रा

  • सड़क मार्ग के जरिए आप चार धाम यात्रा की शुरुआत हरिद्वार, दिल्ली या देहरादून से कर सकते हैं।
  • हरिद्वार रेलवे स्टेशन इन पवित्र स्थानों के सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन है।
  • हरिद्वार सड़क और रेल नेटवर्क के माध्यम से दिल्ली और अन्य प्रमुख शहरों से जुड़ा है।
  • इतना ही नहीं आप को यहां से यमुनोत्री के लिए बसें भी मिल जाएंगी।

चार धाम के लिए हेलीकॉप्टर मार्ग

  • हेलीकॉप्टर की मदद से चार धाम की यात्रा की शुरुआत देहरादून से होती है।
  • इसके बाद देहरादून, यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ धाम और बद्रीनाथ पर हेलीकॉप्टर की सुविधा दी गई है।

चार धाम का सड़क मार्ग

  • सड़क मार्ग के जरिए हरिद्वार, ऋषिकेश, बरकोट, जानकी चट्टी, यमुनोत्री, उत्तरकाशी, हरसिल, गंगोत्री, घनसाली, अगस्तमुनि, गोविन्द घाट और बद्रीनाथ है।

हेलीकॉप्टर द्वारा ऐसे करें चार धाम यात्रा

  • आप चाहें तो हेलीकॉप्टर की मदद से भी चार धाम की यात्रा पर जा सकते हैं। इसके लिए आपको सहस्त्रधारा हेलीपैड पर पहुंचना होगा, हेलीकॉप्टर सेवा देहरादून से खरसाली तक है, जो कि यमुनोत्री मंदिर से करीब 6 किलोमीटर दूर है।
  • इसके बाद हरसिल हेलीपैड से गंगोत्री मंदिर तक हेलीकॉप्टर की यात्रा की जा सकती हैं। इसके साथ ही बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम के हेलीपैड भी मंदिर के पास स्थित हैं।

चार धाम पर जाने का बेस्ट समय

  • चार धाम की यात्रा पर जाने के लिए सबसे अच्छा समय अप्रैल से जून और सितंबर से अक्टूबर के बीच का माना जाता है।
  • इन महीनों में यहां का मौसम बेहद सुहाना और आरामदायक होता है।
  • इसके अलावा मानसून के महीने में यहां यात्रा करने से बचने की हिदायत दी जाती है, इतना ही नहीं सर्दियों के मौसम में बर्फ के कारण केदारनाथ की मूर्तियां उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर और बद्रीनाथ की मूर्तियां जोशीमठ में रखी जाती हैं।

यात्रा से पहले करना होता है पंजीकरण

  • आपकी सुविधाजनक चार धाम की यात्रा दिल्ली, हरिद्वार, ऋषिकेश या देहरादून से शुरू की जा सकती है।
  • यात्रा की शुरुआत में ही आपको बायोमेट्रिक पंजीकरण कराना अनिवार्य होता है।
  • इसके लिए आपको देहरादून स्मार्ट सिटी पोर्टल पर जाना होता है और दी गई सभी जानकारियों को फिल करना पड़ता है।
  • लेकिन अगर आप उत्तराखंड के स्थायी निवासी है तो आपके लिए पंजीकरण करवाना आवश्यक नहीं है, यह केवल बाहरी यात्रियों के लिए होता है।

यात्रा के दौरान अपने साथ ले जाएं ये जरूरी चीजें

  • ऐसी ठंडी जगहों पर सर्दी, खांसी और बुखार का खतरा बहुत ज्यादा होता है।
  • ऐसे में अपने साथ दवाओं की किट जरूर ले जाएं।
  • इसके अलावा बैंड- एड्स और एंटीसेप्टिक मरहम भी ले जाना चाहिए।
  • सनबर्न से बचने के लिए आपको सनस्क्रीन और टोपी जैसी चीजें भी साथ लेकर जाना चाहिए।
  • विंडचीटर जैकेट, रेनकोट और बारिश से बचने के लिए आपको छाता भी लेकर जाना चाहिए।
  • वाटर प्रूफ जूते और वाटरप्रूफ बैग लेकर जरूर जाना चाहिए।

Read Also

गाजियाबाद की ये डरावनी जगहें कई दिलचस्प कहानियों के लिए हैं फेमस
झुमरी तलैया: नाम तो सुना ही होगा, यहां घूमने के लिए हैं कई अद्भुत जगहें
बिहार राज्य की खूबसूरती में चार-चांद लगाते हैं यह वाटरफॉल
भारत के इन मंदिरों में मिलता है नॉन-वेजिटेरियन प्रसाद
पूवार जाएं तो इन जगहों का जरूर उठाएं लुत्फ
औरंगाबाद में हैं तो इन चीजों का जरूर उठाएं मजा

Conclusion:- मित्रों आज के इस आर्टिकल में चार धाम की यात्रा कैसे करें, जानें पूरा प्रोसेस के बारे में कितना जानते हैं आप के बारे में कभी विस्तार से बताया है। तो हमें ऐसा लग रहा है की हमारे द्वारा दी गये जानकारी आप को अच्छी लगी होगी तो इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसे ही इंटरेस्टिंग पोस्ट पढ़ने के लिए बने रहे हमारी साइबारिश के मौसम में हर घुमक्कड़ को इन रोड ट्रिप का लुत्फ़ उठाना चाहिएट TripFunda.in के साथ (धन्यवाद)

Leave a Comment