देश के कुछ ऐसे ढाबे जो बसें हैं इतनी ऊंचाई पर, कि इनके सामने पहाड़ी जगह भी हैं फींकी

देश के कुछ ऐसे ढाबे जो बसें हैं इतनी ऊंचाई पर, कि इनके सामने पहाड़ी जगह भी हैं फींकी :- छोटी-छोटी पार्टीज या दोस्तों के साथ गेट टुगेदर करने के लिए आप अपने शहर के कैफे में जाते होंगे। वैसे आजकल कैफे यंगस्टर्स के फेवरेट होते हैं। यहां पर उन्हें दोस्तों के साथ मस्ती करने के साथ ही यहां पर शानदाार मेन्यू को ऑर्डर करने का मौका भी मिलता है। अब तक आपने अपने शहर के पॉश इलाकों में बने कैफे देखे होंगे, लेकिन आज हम आपको देश के कुछ ऐसे कैफेज के बारे में बताने जा रहे हैं, जो जमीन पर नहीं बल्कि ऊंची पहाड़ों पर बसे हैं। इन्हें कहते हैं माउंटेन कैफे। तो अगर आप शहर से बाहर किसी हिल स्टेशन पर घूमने जा रहे हैं, तो यहां के हिल स्टेशन या माउंटेन कैफे बहुत सुंदर हैं। आइए जानते हैं भारत के हिल स्टेशन कैफेज के बारे में।

रिनचेन कैफेटेरिया

खरदुंगला पास में 5602 फीट की ऊंचाई पर स्थित रिनचेन कैफेटेरिया दुनिया में सबसे ऊंचा कैफेटेरिया है। यह कैफे नुब्रा घाट के रास्ते में पड़ता है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर पर कब्जा करने के लिए कर्नल रिनचेन के नाम पर इस कैफेटेरिया का नाम रखा गया है। इस कैफे की मैगी बहुत फेमस है। खासतौर से सूप मैगी। मैगी के अलावा यहां स्टीम्ड मोमोज, चाय और कॉफी का स्वाद कुछ अलग और स्वादिष्ट होता है। लेकिन केवल खाना ही यहां का यूएसपी नहीं है। बल्कि यहां का नजारा यहां आने वालों को सबसे ज्यादा लुभाता है। यहां से आपको बर्फ दिखाई देती है। पर ध्यान रखें कि ऊंचाई पर होने के कारण यहां का ऑक्सीजन लेवल बहुत कम होता है, इसलिए यहां आप बहुत ज्यादा देर तक नहीं रह सकते।

एवरग्रीन कैफे

अगर आप कसोल घूमने गए हैं, तो मणिकरण साहिब रोड पर एवरग्रीन कैफे पर जरूर जाना चाहिए। यहां पर सर्व किए जाने वाले भोजन को देखकर ही मुंह में पानी आने लगता है। यहां की इजरायली डिशेज का कोई मुकाबला नहीं है। इन्हें खाकर ऐसा लगता है जैसे इन्हें घर में बनाया गया हो। यहां पर भुने हुए तिल में लिपटे डीप फ्राइड चिकन, इजरायली वेज मिक्स प्लेट, पोटैटो चीज बॉल्स और बीबीक्यू को जरूर आजमाना चाहिए। यहां पर फ्रेंज फ्राइज और लाबनेह ऑमलेट और काहवा के साथ कॉम्बो प्लेट भी जरूर ट्राय करनी चाहिए। एवरग्रीन कैफे वास्तव में कसोल में एक चिल करने वाली जगह है।

शिवाज कैफे

धर्मशाल के मैक्लोडगंज में भागसू नाग मंदिर के पास शिवाज कैफे में हर दिन काफी भीड़ देखी जाती है। यह शांत वातावरण और लुभावने नजारों को पेश करने वाला कैफे है। कहने को यह एक छोटी सी झोपड़ी है, जहां कम सजावट के साथ लाजवाब खाना मिलता है। यहां पर हक्का नूडल्स, हैश ब्राउन आलू, सैंडविच , ऑमलेट और कॉफी पीने तो जरूर जाना चाहिए।

कैफे 1947

पुरानी मनाली पुल के पास मनु मंदिर के रास्ते में कैफे 1947 पड़ता है। यह कैफे पिज्जा, रिसोटोस, रैवियोली और ब्रुशोटा जैसे बेहतरीन इटालियन भोजन सर्व करता है। इसके साथ ही ऑलिव ब्रुशेटा, चिली हनी, केसर मटर मशरूम बु्रसोटो और इटालियन स्पिनेक रैवियोली का भी स्वाद चखना चाहिए। यहां पर रेड हॉट चिली पेपर पिज्जा का स्वाद लेने के लिए लोग दूर-दूर से आते हैं। कैफे में इंनडोर और आउटडोर में नदी के किनारे बैठने की भी सुविधा दी गई है।

पिंक फ्लॉइड कैफे

अगर आप कसौली घूमने गए हैं, तो मणिकरण के पास पिंक फ्लॉइड कैफे आपको मंत्रमुग्ध कर सकता है। लकड़ी से बने इस कैफे में लो फ्लोर सिटिंग की सुविधा है। यहां की दीवारें पिंक फ्लॉइड आर्टवर्क और ग्राफिटी से सजी हुई हैं। यहां पर खाने और पीने के लिए कई ऑप्शन्स हैं। खासतौर से यहां पर आपने आमलेट, सैंडविच और फ्राइज का स्वाद नहीं लिया, तो यहां आना फिजूल है। कॉफी के साथ न्यूटेला डेजर्ट का ऑर्डर इस कैफे में जरूर देना चाहिए।

जिमी इटालियन किचन

धर्मशाला के मैक्लोडगंज में यूं तो कई कैफे हैं, लेकिन अगर एक स्पेशल एक्सपीरियंस लेना है, तो जिमी इटालियन किचन जरूर जाएं। यहां का भोजन वास्तव में स्वादिष्ट है। ग्रिल्ड चिकन कैसियाटोर, बेक्ड आलू, ग्रीन सलाद , पालक मशरूम लसग्ने, हैम और पेस्टो के साथ ग्रोची यहां की पॉपुलर डिशेज हैं। अगर आप यहां पर आए हैं, तो ब्लूबेरी चीज केक जरूर खाना चाहिए। दिलचस्प बात यह है कि इस कैफे में इंडियन, अमेरिकन और फामर्स ब्रेकफास्ट भी सर्व किया जाता है।

मून डांस कैफे

कसौल में पार्वती कुटीर में मणिकरण साहिब के पास मून डांस कैफे शायद ही कभी खाली दिखता हो। यह कसौल का फेमस कैफे है। हरे-भरे वातावरण का नजारा न केवल मनमोहक है, बल्कि यहां के खाने की तारीफ भी लोग करते नहीं थकते। यहां आकर सिनेमन ब्रेड, ऑमलेट कॉफी, वैफल्स और शेक्स का स्वाद लेना ना भूलें।

Conclusion:- दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने देश के कुछ ऐसे ढाबे जो बसें हैं इतनी ऊंचाई पर, कि इनके सामने पहाड़ी जगह भी हैं फींकी के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का यह आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, और आज के इस आर्टिकल से आपको अवश्य कुछ मदद मिली होगी। इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

यह भी पढ़ें:- भरतपुर का इतिहास

अगर हमारे द्वारा बताई गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आपने दोस्तों को जरुर शेयर करे tripfunda.in आप सभी का आभार परघट करता है {धन्यवाद}

Leave a Comment