गुजरात के अम्बाजी मंदिर से जुड़े कुछ अमेजिंग फैक्ट्स

गुजरात के अम्बाजी मंदिर से जुड़े कुछ अमेजिंग फैक्ट्स:- नमस्कार मित्रों आज हम बात करेंगे गुजरात के अम्बाजी मंदिर से जुड़े कुछ अमेजिंग फैक्ट्स के बारे में जब गुजरात में घूमने की बात होती है, तो यहां पर दर्शनीय स्थलों की कमी नहीं है। लेकिन माता के भक्तगण विशेष रूप से अम्बाजी मंदिर के दर्शन के लिए गुजरात जाते हैं। यह भारत के प्रसिद्ध तीर्थ स्थान में से है और इसकी गिनती 51 प्राचीन शक्तिपीठों में होती है। अंबाजी माता मंदिर भारत का एक प्रमुख शक्ति पीठ है। यह पालनपुर से लगभग 65 किलोमीटर, माउंट आबू से 45 किलोमीटर और आबू रोड से 20 किलोमीटर और अहमदाबाद से 185 किलोमीटर, गुजरात और राजस्थान सीमा के पास स्थित है। यहां पर नवरात्रि का त्योहार बेहद ही उत्साह व उमंग के साथ मनाया जाता है। लोग पवित्र माता के चारों ओर गरबा नृत्य करते हैं। मंदिर में दर्शन करने के बाद लोग आसपास के प्राकृतिक नजारों का आनंद उठाते हैं। मंदिर को लेकर लोगों के मन में एक अलग ही श्रद्धा व मान्यता है। लेकिन क्या आप इस मंदिर के बारे में सबकुछ जानते हैं। तो आइए हम जानते हैं इस आर्टिकल में विस्तार से.

नवरात्रि में दिखता है अलग ही नजारा

  • अम्बा जी मंदिर में यूं तो सालभर भक्तों का तांता लगा रहता है
  • लेकिन नवरात्रि के दौरान यहां पर एक अलग ही माहौल होता है
  • नवरात्रि के नौ दिनों तक भक्तगण पूरी श्रद्धा से माता की भक्ति करते हैं
  • इस खास अवसर पर मंदिर के प्रांगण में भवई और गरबा जैसे नृत्यों का आयोजन किया जाता है
  • साथ ही सप्तशती का पाठ भी किया जाता है

करीबन 1200 साल पुराना है मंदिर

  • यह मंदिर बेहद ही प्राचीन है
  • यह इतना पुराना है कि तब तक मूर्ति पूजा का भी चलन शुरू नहीं हुआ था
  • यह मंदिर करीबन 1200 साल पुराना है
  • इतना ही नहीं, इस मंदिर के जीर्णोद्वार का काम 1975 से शुरू हुआ था
  • तब से अब तक इसका काम अभी चल रहा है

मंदिर में नहीं है मूर्ति

  • आमतौर पर, हर मंदिर में भगवान की कोई ना कोई मूर्ति या छवि अवश्य होती है
  • लेकिन अम्बाजी मंदिर काफी अलग है
  • अम्बाजी मंदिर में देवी की कोई छवि या मूर्ति नहीं है
  • यहां पर पवित्र “श्री वीसा यंत्र“ को मुख्य देवता के रूप में पूजा जाता है
  • इस यंत्र को कोई भी नग्न आंखों से नहीं देख सकता है साथ ही यंत्र की फोटोग्राफी प्रतिबंधित है
    पहले का है
  • यह दूर से देवी की मूर्ति की तरह दिखता है

श्वेत संगमरमर से है निर्मित

  • अम्बा जी मंदिर देखने में इसलिए भी खूबसरत लगता है
  • यह श्वेत संगमरमर से निर्मित है
  • यह मंदिर बेहद ही भव्य है और इसका शिखर एक सौ तीन फुट ऊंचा है

बेहद पवित्र माना जाता है कुंड

  • अम्बाजी मंदिर में दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की यात्रा सिर्फ मंदिर तक ही सीमित नहीं होती है
  • अंबाजी मंदिर से थोड़ी दूरी पर एक कुंड स्थित है
  • जिसमें डुबकी लगाना बेहद पवित्र माना जाता है
  • इस कुंड को लोग मानसरोवर कहकर पुकारते हैं
  • यहां पर डुबकी लगाने का अपना एक अलग ही आध्यात्मिक महत्व है

Conclusion:- मित्रों आज के इस आर्टिकल में  गुजरात के अम्बाजी मंदिर से जुड़े कुछ अमेजिंग फैक्ट्स के बारे में कभी विस्तार से बताया है। तो हमें ऐसा लग रहा है की हमारे द्वारा दी गये जानकारी आप को अच्छी लगी होगी तो इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। ऐसे ही इंटरेस्टिंग पोस्ट पढ़ने के लिए बने रहे हमारी साइबारिश के मौसम में हर घुमक्कड़ को इन रोड ट्रिप का लुत्फ़ उठाना चाहिएट TripFunda.in के साथ (धन्यवाद)

Leave a Comment