मसूरी का 2 दिन ट्रिप ऐसे करें प्लान, नहीं होगी समय की बर्बादी और देखने को मिलेगा बहुत कुछ

मसूरी का 2 दिन ट्रिप ऐसे करें प्लान, नहीं होगी समय की बर्बादी और देखने को मिलेगा बहुत कुछ

मसूरी का 2 दिन ट्रिप ऐसे करें प्लान, नहीं होगी समय की बर्बादी और देखने को मिलेगा बहुत कुछ – अगर आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं, तो हिल स्टेशन पर छुट्टियां बिताने के लिहाज से मसूरी सबसे बेस्ट जगह है। उत्तराखंड का यह मशहूर हिल स्टेशन आज भी फैमिली, दोस्तों और कपल्स के लिए एक पसंदीदा डेस्टिनेशन है। यहां कैम्पटी फॉल, गन लेक और मसूरी लेक जैसी कई खूबसूरत जगह घूमने लायक हैं। अगर आप भी मसूरी 2 दिन के ट्रिप पर जाने का प्लान बना रहे हैं, तो आज हम आपको मसूरी की कुछ बेस्ट जगह बताने वाले हैं, जहां आप इन इन जगहों पर जाकर खूब मस्ती कर सकते हैं।

यहां मसूरी में घूमने के लिए सबसे आश्चर्यजनक स्थानों की सूची दी गई है जिन्हें याद नहीं करना चाहिए। घुड़सवारी और रोलर-स्केटिंग से लेकर नौका विहार और बहुत कुछ, यहाँ मसूरी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों की सूची है, जिन्हें आपको इस हिल स्टेशन पर जाने पर नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए। जोड़ों के लिए रोमांटिक आकर्षण से लेकर बच्चों के लिए बच्चों के अनुकूल स्थानों से लेकर रोमांच चाहने वालों के लिए एडवेंचर हब तक, आपको इस सूची में मसूरी में दर्शनीय स्थलों की यात्रा के लिए बहुत सारे स्थान मिलेंगे, चाहे आपकी छुट्टी का प्रकार कोई भी हो

मसूरी की खोज

आपको बता दूं कि इस जगह की खोज उन्नीसवीं सदी के तीसरे दशक में एक ब्रिटिश अधिकारी कप्तान यंग ने की थी। इस अनोखी जगह और इसकी खूबसूरती को देखकर वह हैरान हो गया था। इसलिए इसकी स्थापना के बारे में वह सोच पाया और यह एक हिल स्टेशन के रूप में स्थापित हो सका।

अन्य महत्वपूर्ण आकर्षण

यह जगह देशी-विदेशी सैलानियों को अपनी तरफ खींचती है। गंगोत्री और यमुनोत्री की यात्रा पर जाने का यह मुख्य द्वार है। इस जगह पर यदि आप आते हैं तो आपको सुंदर पहाड़ियां, प्राकृतिक सुंदरता, प्राचीन इमारतें और सामाजिक जीवन की एक खूबसूरत बसावट देखने को मिलेगी। यह जगह छुट्टियां बिताने के अनुकूल है। इस जगह पर लोग अपनी लम्बी छुट्टियों को एन्जॉय करने के लिए आते हैं। मसूरी में कई सेलिब्रिटी के बंगले भी हैं जो सैलानियों के आकर्षण का केंद्र बन चुके हैं।

दून घाटी का नज़ारा

यहां से आसानी से हिमालय की बर्फ से ढंकी पर्वत मालाओं को देखा जा सकता है। इस जगह से दून घाटी बहुत ही खूबसूरत नज़र आती है। जिन सैलानियों को शांत जगहों पर घूमना पसंद होता है वह इस जगह पर आते हैं। मेरा इस जगह पर कई बार जाना हुआ लेकिन अब भी जब देहरादून जाना होता है तो इस जगह पर जाए बिना दिल नहीं मानता और अनायास ही कदम मसूरी की तरफ मुड़ जाते हैं।

क्या क्या है ख़ास

घूमने टहलने की जगहों में मॉल रोड, लाइब्रेरी, कंपनी गार्डन और कम्पटी फॉल काफी प्रसिद्ध है। इन जगहों पर हर कोई जाता ही जाता है। आप को भी ये जगहें पसंद आएंगी। खासकर कंपनी गार्डेन और कम्पटी फॉल। आप चाहें तो भट्ट फॉल भी जा सकते हैं। इस जगह पर कम्पटीफॉल जितनी भीड़ नहीं रहती, यह एक छोटा मगर आकर्षक झरना है।

कैमल बेक रोड

यह एक सड़क है जो घोड़े के पीठ के समान दिखाई देती है। इस जगह पर आप पैदल यात्रा या फिर घुड़सवारी कर सकते हैं। इस सड़क से सूर्यास्त और सूर्योदय का दृश्य काफी सुन्दर दिखाई देता है। आप आसपास की पहाड़ियों का खूबसूरत और मनोरम दृश्य देख सकते हैं।

गन हिल

यह मसूरी की दूसरी सबसे ऊंची चोटी के रूप में जानी जाती है। जिसकी ऊंचाई 2122 मीटर है। इस जगह पर पहुंचने के लिए रोपवे बना हुआ है। आप गन हिल पर एक रोमांचक रोपवे की सवारी का मज़ा ले सकते हैं। इस जगह से पूरी वादी अपने सबसे खूबसूरत रूप में दिखाई देती है।

मसूरी में एक दिन का ट्रिप

देहरादून और मसूरी की सड़कों के बीच मौजूद केम्पटी फॉल्स पानी का एक खूबसूरत झरना है, जो 40 फीट की ऊंचाई से जमीन पर गिरता है। पर्वतों और चट्टानों से घिरा केम्पटी फॉल्स समुद्र तल से लगभग 4500 फीट की ऊंचाई पर बसा हुआ है। इस जगह को जॉन मेकिनन द्वारा पिकनिक स्थल के रूप में बनवाया गया था। मसूरी आने वाले यात्रियों के लिए केम्प्टी फॉल्स पिकनिक स्पॉट के रूप में पर्यटकों के बीच में बेहद मशहूर है। इस झरने पर लगभग पूरे साल आप भीड़ देख सकते हैं।

मसूरी का तिब्बती बौद्ध मंदिर

लाइब्रेरी बस स्टैंड से 2.5 किमी की दूरी पर, हैप्पी वैली मसूरी में एक बड़ी तिब्बती बस्ती है। यह आईएएस अकादमी, तिब्बती मंदिरों और नगर उद्यानों के आवास के लिए भी प्रसिद्ध है। हैप्पी वैली लाइब्रेरी पॉइंट के पश्चिम की ओर से शुरू होती है और क्लाउड्स एंड की ओर जाती है। हैप्पी वैली, जिसे मिनी-तिब्बत भी कहा जाता है, लगभग 5000 तिब्बती शरणार्थियों का घर है। यह मसूरी के शीर्ष दर्शनीय स्थलों में से एक है। मंदिर के ध्यान कक्ष को दीवारों, पैनलों और छत पर सुंदर चित्रों के साथ उकेरा गया है। मंदिर बेनोग हिल सर्किट का एक शानदार मनोरम दृश्य प्रदान करता है।

मसूरी का कैमल्स बैक रोड

लाइब्रेरी बस स्टैंड से 3 किमी की दूरी पर, कैमल्स बैक रोड कुलरी बाजार से मसूरी में लाइब्रेरी चौक तक 3 किमी लंबा है। यह मसूरी शहर में घूमने के लिए शीर्ष पर्यटन स्थलों में से एक है। सड़क का नाम चट्टान से लिया गया है जिसका आकर ऊंट के पीठ के आकार की तरह है। कैमल्स बैक रोड का निर्माण 1845 में किया गया था। इस सड़क में एक प्राचीन हवा घर है जहाँ लोग बैठकर खूसबूरत चोटियों को देख सकते हैं। इस हवा घर को पहले स्कैंडल प्वाइंट के नाम से जाना जाता था। हिमालय की चोटियों को करीब से देखने के इच्छुक लोगों के लिए यहां टेलीस्कोप उपलब्ध हैं। यहां से बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, चौखम्बा, नंदा देवी चोटियां दिखाई देती हैं।

मसूरी का लाल टिब्बा

मसूरी लाइब्रेरी बस स्टैंड से 5.5 किमी की दूरी पर, लाल टिब्बा लंढौर क्षेत्र में स्थित मसूरी का सबसे ऊंचा स्थान है। यह 2275 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह स्थान सूर्योदय और सूर्यास्त के सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है और मसूरी में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। लाल टिब्बा (या रेड हिल) को डिपो की उपस्थिति के कारण डिपो हिल के रूप में भी जाना जाता था, इसमें भारतीय सैन्य सेवाओं का एक शिविर, दूरदर्शन के टॉवर और ऑल इंडिया रेडियो भी हैं। 1967 में, बद्रीनाथ, केदारनाथ, बंदरपंच, और अन्य हिमालय पर्वतमाला के सुंदर दृश्य प्रस्तुत करने के लिए नगरपालिका द्वारा टॉवर पर एक दूरबीन को एक चट्टान पर रखा गया था।

मसूरी का मॉल रोड

लाइब्रेरी बस स्टैंड से 3 किमी की दूरी पर, मसूरी के केंद्र में स्थित मॉल रोड मुख्य खरीदारी क्षेत्र है। मॉल रोड दो प्रमुख बाजारों, कुलरी और पुस्तकालय को जोड़ता है। मॉल रोड का निर्माण ब्रिटिश निवासियों द्वारा किया गया था और यहां आप सड़कों के किनारे बेंचों और लैम्पपोस्टों देख सकते हैं। मॉल के साथ-साथ पर्यटन कार्यालय, तिब्बती ट्रिंकेट और लकड़ी की कलाकृतियाँ बेचने वाली कई दुकानें हैं।

मसूर का कंपनी बाग

मसूरी लाइब्रेरी बस स्टैंड से 3.5 किमी की दूरी पर, कंपनी बाग, जिसे म्यूनिसिपल गार्डन भी कहा जाता है, मसूरी में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन एकेडमी के पास हैप्पी वैली क्षेत्र में स्थित है। यह मसूरी का लोकप्रिय दर्शनीय स्थल है। पार्क का रखरखाव गार्डन वेलफेयर एसोसिएशन ऑफ मसूरी द्वारा किया जाता है। कंपनी गार्डन मसूरी का एक प्रमुख पिकनिक स्थल है। इसे पहले मसूरी के बॉटनिकल गार्डन के नाम से भी जाना जाता था।

भद्रराज मंदिर

यह मंदिर मसूरी से थोड़ी दूर है और चकराता और जौनसार बाबर क्षेत्र के काफी अच्छे और लुभावने दृश्य प्रस्तुत करता है। इस जगह पर लोग प्रकृति की छटा और मंदिर दर्शन के लिए आते हैं। यह मंदिर भगवान बाल भद्र का है जो कृष्ण के भाई थे। ये सैलानियों के लिए एक अच्छा और आदर्श स्थान है।

कैसे पहुंचे और कहां ठहरे

इस जगह पर पहुंचने के लिए आपको बस, ट्रेन, प्लेन किसी भी माध्यम से सबसे पहले देहरादून पहुंचना होगा फिर मसूरी के लिए सार्वजनिक या फिर निजी परिवहन का विकल्प मसूरी अच्छी तरह से देहरादून, दिल्ली, रुड़की और सहारनपुर के साथ सड़कों से जुड़ा हुआ है। मसूरी में ठहरने के लिए बहुतेरे विकल्प हैं। पर्यटक की जरूरतों को पूरा करने के लिए कुछ अच्छे होटल, मनोरंजन क्लब और रेस्तरां बहुतायत संख्या में उपलब्ध हैं।

Conclusion:- दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने मसूरी का 2 दिन ट्रिप ऐसे करें प्लान, नहीं होगी समय की बर्बादी और देखने को मिलेगा बहुत कुछ के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का यह आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, और आज के इस आर्टिकल से आपको अवश्य कुछ मदद मिली होगी। इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

यह भी पढ़ें:- गर्मी में भी बर्फबारी का मजा दे रही है हिमाचल की ये जगह, रोहतांग की तरह नहीं लेना पड़ता परमिट

अगर हमारे द्वारा बताई गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आपने दोस्तों को जरुर शेयर करे tripfunda.in आप सभी का आभार परघट करता है {धन्यवाद}

Leave a Comment