ट्रेन में लिखे SL, 1A, 2A, जैसे कोड का ये होता है मतलब कई इसे आजतक कुछ और ही समझ रहे थे

ट्रेन में लिखे SL, 1A, 2A, जैसे कोड का ये होता है मतलब कई इसे आजतक कुछ और ही समझ रहे थे

ट्रेन में लिखे SL, 1A, 2A, जैसे कोड का ये होता है मतलब कई इसे आजतक कुछ और ही समझ रहे थे – भारतीय रेलवे में क्लास की केटेगरी बहुत हैं। लेकिन आप इनमें से कितनों के बारे में जानते हैं। अगर ज्यादा केटेगरी के बारे में नहीं जानते, तो इस लेख के जरिए जानिए कि भारतीय रेलवे में 5 तरह की क्लासेस होती हैं।

भारतीय रेलवे में आपने कई कोड देखे होंगे, जिन्हें देखने के बाद आप यही सोचते होंगे कि आखिर इनका मतलब होता क्या है। उनमें से कुछ कोड के बारे में आप जरूर जानते होंगे, लेकिन कुछ को देखकर आप खुद दुविधा में पड़ जाते होंगे कि आखिर इन्हें यहां क्यों लिखा गया है। SL, 1A, 2A, 3A, 2S, CC और EC आमतौर पर रेलवे में इस्तेमाल की जाने वाली केटेगरी हैं। चलिए आज हम आपको इसके बारे में अच्छे से जानकारी देते हैं।

रेलवे में SL क्लास – SL Class in Indian Railway

रेलवे में SL क्लास का मतलब स्लीपर क्लास होता है और ये भारतीय ट्रेन में सबसे लोकप्रिय केटेगरी में से एक है। इस वर्ग में ज्यादातर लोग यात्रा करते हैं। ज्यादातर मामलों में स्लीपर क्लास में 72 से 78 सीटें होती हैं और सीट कॉन्फ़िगरेशन 3 + 3 + 2 जैसा होता है। इसका मतलब है कि डिब्बे के दोनों ओर तीन सीटें हैं और डिब्बे के गलियारे वाली साइड दो सीटें हैं। ये केटेगरी यात्रियों के बजट में भी होती है।

रेलवे में 1ए/ईसी – 1A/EC Class in Indian Railway

ए क्लास को ही फर्स्ट क्लास एसी का नाम दिया गया है। इसे शताब्दी एक्सप्रेस में एग्जीक्यूटिव क्लास या ईसी के नाम से भी जाना जाता है। यह टिकट का सबसे प्रीमियम वर्ग है, जिसे आप बुक कर सकते हैं और इस टिकट का किराया अक्सर फ्लाइट टिकट की तुलना में ज्यादा होता है। यहां के कोच केबिन में बंटे होते हैं और ज्यादातर केबिन में 4 सीटें होती हैं। ध्यान रखने वाली बात ये है कि अगर आप 1 ए में सीट बुक कर रहे हैं तो यात्रा शुरू होने से पहले टीटीई आपको सीटें देगा। इस कोच में सीटें काफी आरामदायक होती हैं। यहां तक कि इस कोच में खाना भी काफी वैरायटी में मिलता है।

ट्रेन में 2A क्लास – 2A Class in Indian Railway

2A, AC 2 Tier का दूसरा नाम है या आप इसे निकनेम नाम भी बोल सकते हैं, जो AC 3 Tier और AC 1 Tier के बीच में आती है। इस क्लास की सीटें भी काफी आरामदायक होती हैं और दोनों तरफ दो-दो सीटें होती हैं। गलियारे की तरफ भी दो सीटें होती हैं। इसमें भी टिकट थोड़ी महंगी होती है, लेकिन आरामदायक सफर आपको बिल्कुल भी अफसोस नहीं होंगे देगा।

भारतीय ट्रेन में 3ए – 3A Class in Indian Railway

यह 3 टियर एसी के लिए है और यह स्लीपर क्लास में एसी कोच में उपलब्ध सबसे किफायती टिकट है। यहां सीटों की संख्या कोच के हिसाब से बदलती रहती है, जहां एक बोगी में न्यूनतम सीटें 64 और अधिकतम 72 सीटें हो सकती हैं।

रेलवे में 2S क्लास – 2S Class in Indian Railway

हमारी लिस्ट में अगली केटेगरी सेकेंड सिटिंग है और ये सिटिंग क्लास में उपलब्ध सबसे सस्ती टिकट है। सीटें काफी आरामदायक नहीं होती हैं, लेकिन अगर आप कम दूरी की यात्रा कर रहे हैं, तो आप ये सीट को चुन सकते हैं। इस रो में 6 सीटें हैं सीटें एक-दूसरे के आमने-सामने रहती हैं। 2एस में सीटों की कुल संख्या 108 सीट प्रति बोगी है।

भारतीय ट्रेन में CC क्लास – CC Class in Indian Railway

ये भारतीय रेलवे में उपलब्ध अंतिम क्लास होती है और वो है AC चेयर कार। काफी कम्फर्टबेल चीजों के साथ सीटें 2C से बेहतर होती हैं और यहां बैठने की व्यवस्था 2 + 3 है, जो कि हैं आरामदायक लेकिन लंबी यात्रा में इन सीटों का उपयोग करने से बचें।

Conclusion:- दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमने ट्रेन में लिखे SL, 1A, 2A, जैसे कोड का ये होता है मतलब कई इसे आजतक कुछ और ही समझ रहे थे के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। इसलिए हम उम्मीद करते हैं, कि आपको आज का यह आर्टिकल आवश्यक पसंद आया होगा, और आज के इस आर्टिकल से आपको अवश्य कुछ मदद मिली होगी। इस आर्टिकल के बारे में आपकी कोई भी राय है, तो आप हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

यह भी पढ़ें:- अब बिना टिकट के भी कर सकते हैं ट्रेन से सफर, लेकिन पहले जान लें इन खास नियमों के बारे में

अगर हमारे द्वारा बताई गई जानकारी अच्छी लगी हो तो आपने दोस्तों को जरुर शेयर करे tripfunda.in आप सभी का आभार परघट करता है {धन्यवाद}

Leave a Comment