भारत का एक अनोखा गांव, जहां के लोग खाते हैं भारत में और सोते हैं दूसरे देश में

यहां के लोग भारतीय सेना के साथ-साथ म्यांमार की सेना में भी शामिल है

सीमा पर मौजूद होने के बाद कई लोगों के पास दोनों ही देशों में रहने का निवास स्थल है जिसके चलते सेना में शामिल होते रहते हैं।

इस गांव के बारे में एक विचित्र कहानी भी है कि इस गांव के लोगों में खोपड़ी पहने का रिवाज है

इसके अलावा लोंगवा गांव के बारे में कहा जाता है किसी-किसी घर का किचन भारत में स्थित है सोने के लिए म्यांमार में जाते हैं।

यही नहीं भारत के कुछ लोग खेती करने म्यांमार में जाते हैं तो कुछ म्यांमार से भारत में खेती करने आते हैं।

यह गांव भारत के नागालैंड और म्यांमार की सीमा पर स्थित है।

नागालैंड के मोन जिले में स्थित यह गांव भारत का आखिरी गांव भी माना जाता है।

इस गांव का जो व्यक्ति मुखिया है उनकी 1-2 या 3 नहीं बल्कि 60 पत्नियां हैं

इस वेब स्टोरी से संबंधित संपूर्ण जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए Learn More पर क्लिक  करके पूरी जानकारी पढ़े