इस जगह पिंड दान कर लिया तो फिर कहीं और जाने की ज़रूरत नहीं

– हम जिस स्थान के बारे में जिक्र कर रहे हैं उस स्थान का नाम 'ब्रम्हा कपाल' है।

– बद्रीनाथ मंदिर से कुछ ही दूरी पर मौजूद अलकनंदा नदी के किनारे ब्रम्हा कपाल स्थित है जहां पिंड दान के लिए हर साल लाखों लोग पहुंचते हैं।

– इस स्थान को लेकर मान्यता है कि पिंड दान करने से पूर्वजों की आत्मा सीधे स्वर्ग को पधारती है।

ब्रम्हा कपाल की मान्यता के पीछे बेहद ही रोचक कहानियां हैं।

– पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान शिव ने जब भगवान ब्रह्मा का पांचवा सिर काटा तो वो इसी स्थान पर आकर गिरा था।

– इस घटना के बाद भगवान शिव पर जब ब्रह्मा दोष का पाप लगा तो वो भगवान विष्णु जी के पास गए और इसका निदान पूछा।

– इसके बाद भगवान विष्णु ने उन्हें ब्रम्हा कपाल में जाकर श्राद्ध करने को बोला।

– जब भगवान शिव ने यहां पिंड दान किया तब जाकर वो ब्रम्हा दोष से मुक्त हुए।

इस वेब स्टोरी से संबंधित संपूर्ण जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए Learn More पर क्लिक  करके पूरी जानकारी पढ़े