सबसे बड़ा गोत्र

सबसे बड़ा गोत्र

सबसे बड़ा गोत्र – अपना गोत्र कैसे जानें, कौन कौन से गोत्र होते हैं, हिंदू धर्म में गोत्र कितने हैं, असली ब्राह्मण कौन है, हिन्दू गोत्र लिस्ट, जाट का सबसे बड़ा गोत्र, गोत्र सूची, ब्राह्मण गोत्र सूची, ब्राह्मण में सबसे बड़ा गोत्र, अपना गोत्र कैसे जाने, भारद्वाज गोत्र, राजपूतों में सबसे बड़ा गोत्र कौन सा है,

सबसे बड़ा गोत्र

देवांगन समाज तखतपुर ने विधायक रश्मि आशीष सिंह का सम्मान किया। रश्मि सिंह ने कहा कि देवांगन समाज का इतिहास पुराना और गौरवशाली रहा है। इस समाज ने अपनी पहचान मेहनतकश और ईमानदार कर्तव्य परायण समाज के रूप में स्थापित की है।

देवांगन समाज को अलग-अलग प्रदेशों में अलग-अलग नाम से जाना जाता है, जिसके कारण अभी तक छत्तीसगढ़ के लोगों को मालूम नहीं था कि उनके समाज के लोग देशभर में फैले हुए हैं। इसके चलते विवाह संबंध तय करने में समाज के लोगों को छत्तीसगढ़ के समाज पर ही निर्भर रहना पड़ता था। कुछ समय पहले ही पता चला कि देवांगन समाज के लोग सिर्फ छत्तीसगढ़ में नहीं, बल्कि देशभर में रहते हैं। विभिन्न प्रांतों में देवांगन जाति को अलग नामों से पुकारे जाने से समाज बंटा हुआ था, लेकिन अब व्यापक अभियान छेड़ा जाएगा और देशभर के समाज को एकजुट किया जाएगा तभी समाज राष्ट्रीय स्तर पर अपनी विशेष पहचान बना पाएगा। ये विचार इंडोर स्टेडियम में रविवार को देवांगन समाज के अखिल भारतीय सम्मेलन में देशभर से आए देवांगन समाज के पदाधिकारियों ने व्यक्त किए। सम्मेलन में सामाजिक सोच का दायरा बढ़ाने राष्ट्रीय स्तर पर बढ़ाने, सामाजिक कुरीतियों से निपटने और राजनीतिक क्षेत्र में उचित प्रतिनिधित्व मांगने पर जोर दिया गया। साथ ही सरकार से मांग की गई है कि बुनकरों को कपड़ा उद्योग लगाने और सरकारी वस्त्रों की सप्लाई करने में पर्याप्त महत्व दिया जाए।

बेहतर बाजार उपलब्ध कराने मुख्यमंत्री ने दिया आश्वासन –
सम्मेलन का शुभारंभ देवांगन समाज की कुल देवी मां परमेश्वरी की पूजा-अर्चना से हुआ। धर्म गुरु श्रीश्रीश्री दयानंद पुरी महास्वामी (पीठाधीश गायत्री पीठ महा संस्थान हम्पी कर्नाटक) के सानिध्य में हुआ। मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने समाज के लोगों को आश्वस्त किया कि देशभर में अपनी विशेष पहचान बनाने वाले बुनकरों व बुनकर समितियों को विशेष बाजार उपलब्ध कराया जाएगा। साथ ही सामाजिक भवन बनाने के लिए जमीन देने का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि वस्त्र उद्योग लगाने या समाज के लोगों की आर्थिक स्थिति बेहतर करने के लिए सरकार द्वारा ठोस प्रयास किए जाएंगे और नई योजनाएं बनाई जाएंगी।

दूसरे सत्र में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने समाज के लोगों से एकजुट होने और रचनात्मक कार्यों को करने पर जोर दिया। सम्मेलन में सहकार भारती के राष्ट्रीय सचिव विजय देवांगन, गुजरात से आए अम्बालाल कोष्टी, कटघोरा विधायक लखनलाल देवांगन, चांपा विधायक मोतीलाल देवांगन, भोपाल देवांगन समाज के अध्यक्ष सालिकराम परिता,अखिल महाराष्ट्र कोष्टी समाज परिषद के अध्यक्ष अरुण वरोड़े आदि का सम्मान किया गया। अतिथियों का स्वागत प्रदेश देवांगन कल्याण समाज छत्तीसगढ़ के संरक्षक महेश देवांगन एवं प्रदेश अध्यक्ष रामगोपाल देवांगन, सचिव रामानंद देवांगन व अन्य पदाधिकारियों ने किया।

अन्य प्रदेशों में जाति का नाम अलग –
पदाधिकारियों ने सम्मेलन में कहा कि अन्य प्रदेशों में जाति को अलग नाम से पुकारा जाता है इसमें छत्तीसगढ़ में देवांगन समाज, महाराष्ट्र में कोष्टी, मध्यप्रदेश में कोष्टा, आंध्रप्रदेश में देवांग, कर्नाटक में पद्मशाली समाज कहा जाता है और समाज के लोग कपड़ा बुनने के व्यवसाय से जुड़े हैं, लेकिन सरकारी ठेकों में समाज को महत्व देने के बजाय दूसरे लोगों को दिया जाता है, जिसके लिए हम सभी को एकजुट होकर हक मांगना चाहिए।

धूमधाम से निकली शोभायात्रा –
दोपहर को सामाजिक चर्चा के पश्चात शाम को मां परमेश्वरी की झांकी के साथ शोभायात्रा निकाली गई जो इंडोर स्टेडियम से शुरू होकर श्याम टॉकिज, गणेश मंदिर, सदरबाजार, कोतवाली चौक, जयस्तंभ चौक, शारदा चौक, तात्यापारा चौक, सत्तीबाजार, पुरानी बस्ती होते हुए वापस कार्यक्रम स्थल पहुंची। शोभायात्रा में धर्मगुरु रथ पर सवार होकर निकले। जसगीत मंडलिया भजन गाते चल रहीं थीं। समारोह में सामाजिक पत्रिका लक्ष्य का विमोचन किया गया।

मेहनतकश समाज के बीच आकर और खुद को सम्मानित होकर गर्व महसूस हो रहा है। किसी भी समाज की प्रगति में मेहनत के साथ शिक्षा का भी बड़ा प्रभाव होता है। आप लोग मेहनती हैं, साथ ही अपने घर की बेटियों को भी अच्छी शिक्षा दिलाइए, जिससे आपका समाज और समृद्ध होकर देश और राज्य के निर्माण में सहभागी हो सके। इस दौरान समाज ने समाज के लिए स्वीकृत 20 लाख रुपए जल्द उपलब्ध कराने की मांग की। इस पर विधायक ने कहा कि मेरे कार्यकाल में देवांगन समाज का विकास हर तरफ से होगा। जो भी स्वीकृति हुई है, उसे शासन स्तर पर पूरा कराने का प्रयास किया जाएगा। संचालन ईश्वर देवांगन ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत जनकपुर के मां परमेश्वरी धर्मशाला में माता परमेश्वरी के छायाचित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर की गई। अध्यक्षता नगर पालिका अध्यक्ष सुरेंदर कौर मक्कड़ ने की। अति विशिष्ट अतिथि पूर्व विधायक जगजीत सिंह मक्कड़, जिला पंचायत सदस्य जितेंद्र पांडे, जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष मुन्ना श्रीवास, नगरपालिका उपाध्यक्ष पुष्पा मुन्ना श्रीवास, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष घनश्याम शिवहरे, देवांगन समाज अध्यक्ष रामकृष्ण देवांगन, ईश्वर देवांगन नगर पालिका नेता प्रतिपक्ष, बिहारी देवांगन, रामप्यारी देवांगन व शिवनाथ देवांगन रहे।
कार्यक्रम को सफल बनाने में कृष्णकांत देवांगन, राजू, चंद्रशेखर, योगेश, यशपाल, विनोद, रवि, दिनेश, तिलक, परमेश्वरी सेवा समिति से सुरेश देवांगन, शत्रुघ्न, मुकेश, बृजमोहन, पार्षद बिहारी देवांगन, पार्षद प्रतिनिधि कैलाश देवांगन, निवर्तमान एल्डरमैन सूरज देवांगन, समाज प्रमुख अरुण देवांगन, विष्णु, जगन्नाथ, महिला समाज की ओर से तखतपुर देवांगन समाज अध्यक्ष कृष्णा देवांगन, जिला उपाध्यक्ष मंजुला देवांगन, जिला सचिव रजनी देवांगन, सचिव शकुंतला देवांगन, उपाध्यक्ष मालती देवांगन, रुक्मिणी, कोशम, अंजनी, रेशम, मीना, विमला, बतसिया, शारदा, मंजू, किशन, तरूण आदि उपस्थित रहे। वही तखतपुर-बरेला आरा मिल एसोसिएशन ने भी विधायक का सम्मान किया। संघ ने विधायक को स्मृति चिन्ह, शॉल और श्रीफल भेंटकर सम्मानित किया। विधायक ने कहा कि प्रदेश के विकास में किसान सहित व्यापारियों का भी महत्वपूर्ण योगदान होता है। सबके सहयोग से ही प्रदेश की अर्थव्यवस्था मजबूत होती है। आप लोगों के बीच आकर और सम्मानित होकर अच्छा अनुभव हो रहा है।

गोत्र से संबंधित लिस्ट

1 Comment

Leave a Comment