सवाई माधोपुर का इतिहास

सवाई माधोपुर पत्रिका, सवाई माधोपुर न्यूज़, सवाई माधोपुर जिला, सवाई माधोपुर कितना किलोमीटर है, सवाई माधोपुर भास्कर, सवाई माधोपुर जिले की ताजा खबर, सवाई माधोपुर भास्कर, सवाई माधोपुर कितना किलोमीटर है, सवाई माधोपुर का इतिहास,

सवाई माधोपुर का इतिहास

सवाई माधोपुर दक्षिण पूर्व राजस्थान में स्थित है यह विंध्य पठार के उत्तरी विस्तार पर स्थित है यह शहर जयपुर से लगभग 121 किमी दक्षिण पूर्व में स्थित है शहर के उत्तर में बनास नदी है पूर्व में, पार्वती नदी के पार, मध्य प्रदेश का बड़ा कुनो वन्यजीव अभयारण्य है।

सवाई माधोपुर राजस्थान के राज्य में एक छोटे शहर जयपुर से लगभग 180 किमी है शहर चंबल नदी के किनारे पर स्थित है 18 वीं सदी में जयपुर क्षेत्र के शासक महाराजा सवाई माधो सिंह प्रथम के नाम पर ही इसका नाम सवाई माधोपुर पड़ा इतिहास में सवाई माधोपुर शहर ने सत्तारूढ़ राजवंशों और राजाओं के कई परिवर्तनों को देखा है प्रारम्भ में यह चौहान वंश के राजपूत सम्राट राजा हम्मीर देव के नियंत्रण में था बाद में शहर पर आक्रमण हुआ और अलाउद्दीन खिलजी की सेना नें इस इस पर नियंत्रण स्थापित कर लिया तथा पूरे बुनियादी ढांचे को बर्बाद कर दिया वर्तमान में, सवाई माधोपुर शहर के अन्दर और आसपास के कई ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थलों के लिए जाना जाता है जिनमें मुख्य रूप से शहर से लगभग 11 किमी की दूरी पर स्थित रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान और रणथंभौर किला शामिल हैं सवाई माधोपुर के आकर्षण शहर कई ऐतिहासिक, पुरातात्विक और धार्मिक महत्व के पर्यटक आकर्षणों तथा रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान, सवाई मान सिंह अभयारण्य और रामेश्वरम घाट जैसे कुछ दर्शनीय स्थलों का केन्द्र है शहर में और इसके आसपास प्रमुख ऐतिहासिक स्थल रणथंभौर किला, हंडर फोर्ट तथा सैमटन की हवेली हैं सवाई माधोपुर मंदिरों और धार्मिक महत्व के तीर्थ स्थलों से भरा है, जिसमें मुख्य रूप से चमत्कारजी जैन मंदिर,अमरेश्वर महादेव मंदिर, कैला देवी मंदिर, चौथ माता मंदिर और प्रसिद्ध श्री महावीरजी मंदिर सम्मिलित हैं ये आकर्षण आगंतुकों को भारतीय इतिहास के गौरवशाली वर्षों में ले जाते हैं एवं उन्हें राजस्थान की समृद्ध संस्कृति का दर्शन कराते हैं सवाई माधोपुर, अद्वितीय ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के अन्य शहरों जैसे दौसा, टोंक, बूंदी और करौली के करीब है उत्सव, मेले, और खाद्य सवाई माधोपुर की संस्कृति और परंपराओं को समझने का सबसे अच्छा तरीका लोकप्रिय वार्षिक मेलों के दौरान शहर में आना है इन मंदिरों और धार्मिक स्थलों में ऐसे मेले हर साल आयोजित किये जाते हैं सवाई माधोपुर अपने अमरूद, ठीक से कहें तो “माधोपुर अमरूद” के लिए जाना जाता है यह अमरूद अपने स्वाद और गुणवत्ता के लिए मशहूर है यह स्थान अपने विभिन्न पारम्परिक नृत्यों विशेष रूप लोकप्रिय घूमर नृत्य और कल्बीलिया नृत्य के लिए प्रसिद्ध है।

यह भी पढ़े : सवाई माधोपुर का इतिहास 

सवाई माधोपुर को जयपुर के महाराजा माधो सिंह प्रथम 1752-1768 द्वारा एक नियोजित शहर के रूप में बनाया गया था और उनके नाम पर इसका नाम रखा गया है निर्माण 19 जनवरी 1763 को शुरू हुआ और सवाई माधोपुर सालाना अपना स्थापना दिवस मनाता है।

सवाई माधोपुर के पास रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान है जो रेलवे स्टेशन से 7 किमी और यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल रणथंभौर किला है सवाई माधोपुर में त्रिनेत्र गणेश मंदिर है।

जलवायु इस छोटे से शहर में विशिष्ट उप उष्णकटिबंधीय जलवायु के साथ गर्म व शुष्क गर्मी और उष्ण-आद्र मानसून का अनुभव होता है इस स्थान की यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय सर्दियों के मौसम के दौरान है, जब जलवायु शांत और सुखद रहती है।

Leave a Comment